युवा दिवस पर साइकिल रैली एवं विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन

द न्यूज यूनिवर्स

झाँसी

12 जनवरी

जीवन में अनुशासित होकर आगे बढ़ना होगा:आईजी
युवा दिवस के अवसर पर साइकिल रैली का आयोजन
झाँसी। युवा दिवस के अवसर पर वामा सारथी (उ0प्र0 पुलिस फैमिली वेलफेयर एसोसिएशन) के तत्वावधान में पुलिस लाइन से साइकिल रैली का आयोजन किया गया। साइकिल रैली का शुभारंभ पुलिस महानिरीक्षक झाँसी परिक्षेत्र झाँसी सुभाष सिंह बघेल द्वारा किया गया।
आईजी ने कहा कि जीवन में अगर लक्ष्य को प्राप्त करना है तो खराब परिस्थिति को बहाना बिल्कुल नहीं चलेगा। जीवन में अनुशासित होकर आगे बढ़ना होगा। उन्होंने कहा कि वर्तमान में परिस्थिति में युवा जल्द राह से भटक जाते हैं। उन्हें पता होना चाहिए कि सफलता के लिए कोई शाट कट नहीं होता। लक्ष्य पर ध्यान केंद्रीत कर कठिन परिश्रेम करना होता है। स्वामी विवेकानंद ने युवाओं को जीवन में अनुशासन का पाठ पढ़ाया है। जिस पर हमें चलने की आवश्यकता है।
उपरोक्त साइकिल रैली पुलिस लाइन झाँसी से प्रारंभ होकर इलाइट चौराहा, लक्ष्मी बाई पार्क, किला, मिनर्वा चौराहा, गोविंद चौराहा, कचहरी चौराहा और जेल चौराहा होते हुए पुलिस लाइन में समापन हुआ।
इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक नगर विवेक त्रिपाठी, सहायक पुलिस अधीक्षक (एएसपी) अभिजीत आर शकर, क्षेत्राधिकारी नगर राजेश कुमार सिंह, क्षेत्राधिकारी सदर हिमांशु गौरव, प्रभारी निरीक्षक थाना कोतवाली देवेश शुक्ल, प्रभारी निरीक्षक नवाबाद अजय कुमार सिंह, प्रभारी निरीक्षक सदर बाजार प्रमोद कुमार, प्रभारी निरीक्षक रक्सा अमित गंगवार, प्रभारी निरीक्षक बड़ागाँव रविन्द्र त्रिपाठी, प्रभारी निरीक्षक बबीना शिव प्रसाद, प्रभारी निरीक्षक महिला थाना श्रीमती पूनम शर्मा एवं अन्य पुलिस अधिकारी कर्मचारीगण मौजूद रहे।

उत्कृष्ट कार्य करने वाले पुलिस कर्मी किए गए सम्मानित
विश्व युवा दिवस के अवसर पर वामा सारथी (उ0प्र0 पुलिस फैमिली वेलफेयर एसोसिएशन) के तत्वावधान में मुख्य अतिथि श्रीमती पंखुड़ी मिठास की उपस्थिति में पं. दीनदयाल सभीगार में स्वामी विवेकानन्द के जीवन एवं कार्यों पर परिचर्चा की गयी।
वक्ताओं ने कहा कि आपकी परिस्थिति जैसे भी हो आप कहीं के भी हो अगर आप ठान ले तो जीवन में अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं। युवाओं को सकारात्मक निर्णय लेने के लिए अनुशासन मेहनत और दृढ़ इच्छा शक्ति पर जोर देना होगा। वहीं, महिला आरक्षीगण करिश्मा व शिवानी द्वारा मंच से कविताएं पढ़ी गयी। इस दौरान उत्कृष्ट कार्य करने वाले पुलिस कर्मियों को सम्मानित किया गया। मालूम हो कि बड़ागांव थाना प्रभारी निरीक्षक रविन्द्र कुमार त्रिपाठी, एसआई प्रवीण कुमार, महेन्द्र कुमार व आरक्षी रामजी द्वारा 14 नवंबर 2020 को लूट की घटना को अंजाम देने वाले तीन बदमाशों को गिरफ्तार किया थआ। इनके पास से असलहें, कारतूस व लूट का माल बरामद किया था। इसी तरह नवाबाद थाना क्षेत्र के किला गेट चौकी प्रभारी व उनके स्टॉफ ने 15 मिनट के अंदर रहस्यमय ढंग से गायब बुई वैष्णवी को बरामद किया था। इस कार्य में उपनिरीक्षक अनुराग अवस्थी, हेड आपरेटर अजय पाल सिंह नग नियंत्रण कक्ष, आरक्षी इस्तयाक अहमद व आरक्षी सुधीर कुशवाहा की भूरि-भूरि प्रशंसा की गई है। इस कार्यक्रम में पुलिस अधीक्षक ग्रामीण राहुल मिठास, पुलिस अधीक्षक नगर विवेक त्रिपाठी, समाज सेवी एवं शिक्षा विद् सुश्री डॉ. नीति शास्त्री, समस्त सर्किल के क्षेत्राधिकारी गण, डीएसपी (यूटी) इमरान अहमद एवं पुलिस के अन्य अधिकारी /कर्मचारी गण मौजूद रहे।

राष्ट्र का निर्माण और प्रलय युवाओं के हाथ में : कुलपति
बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय में एनएसएस ने मनाया राष्ट्रीय युवा दिवस
भाषण, पोस्टर, प्रश्नोत्तरी एवं स्लोगन लेखन प्रतियोगिता का हुआ आयोजन
झाँसी। किसी भी निर्माण और प्रलय वहां के युवाओं के हाथों में होता है। युवा शक्ति का यदि सही तरीके से उपयोग किया जाए तो राष्ट्र बहुत ही जल्दी एक विकसित राष्ट्र बन सकता है लेकिन यदि युवाओं को सही मार्ग न दिखाया जाए तो विनाश भी संभव है। यह विचार आज बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय झाँसी के कुलपति प्रो. जे. वी. वैशम्पायन ने व्यक्त किए। प्रो॰ वैशम्पायन आज राष्ट्रीय सेवा योजना द्वारा विश्वविद्यालय परिसर के गाँधी सभागार में आयोजित राष्ट्रीय युवा दिवस कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए स्वयंसेवकों को संबोधित कर रहे थे।
प्रो. वैशम्पायन ने कहा कि आज दुनिया के मानव संसाधनों का अवलोकन करने पर हम पाते हैं कि भारत में युवाओं की संख्या सबसे अधिक है। जरूरत है केवल इन्हें सही मार्ग दिखाने की। यदि हम इनका उपयोग सही तरीके से करते हैं तो 21वीं सदी भारत की सदी होगी और भारत एक विकसित राष्ट्र बन जाएगा. आज के दिन युवाओं को भी सोचने का दिन होता है। युवाओं को विचार करना चाहिए कि उन्हें अपने लिए, अपने समाज के लिए, अपने देश के लिए क्या अच्छा कर सकते हैं।
इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिलाधिकारी आन्द्रा वामसी ने कहा कि हर विधार्थी को उनके विचारों को अपने जीवन पर अमल में ले कर आना चाहिए। युवाओं के द्वारा किये गए सामूहिक प्रयास कभी व्यर्थ नहीं जाते हैं। युवा कभी समन्वयवादी नहीं होते हैं। वे नए मार्ग का निर्माण करते हैं और उन पर चलते हैं। इसके साथ ही श्री वामसी ने कहा कि युवा केवल उम्र से नहीं होता है। यदि में कुछ नया सोचने, करने और उसे सही साबित करने की क्षमता नहीं है तो आपकी उम्र कुछ भी हो आप युवा नहीं हो सकते हैं। युवा अपनी सोच, धारणा और विचारों से युवा होता है।
बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय के कुलसचिव नारायण प्रसाद ने कहा कि आज युवा दिवस, युवा हृदय सम्राट स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन पर मनाया जा रहा है। उन्होने कहा कि विवेकानंद का सम्पूर्ण जीवन ही युवाओं का प्रेरणा स्त्रोत रहा है। हमें विवेकानंद द्वारा बताए हुए मार्ग पर चलना चाहिए तथा राष्ट्र के विकास में अपना योगदान देना चाहिए। इस अवसर पर विश्वविद्यालय में प्रवेश प्रकोष्ठ प्रभारी प्रो. प्रतीक अग्रवाल ने कहा कि छात्रों के बीच में रहते हुए हमेशा युवा बना रहना होता है। एक शिक्षक होने के नाते हम शिक्षकों को भी हमेशा नए विचारों का सृजन करते रहना चाहिए। बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय द्वारा राष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर ऑनलाइन भाषण, पोस्टर, स्लोगन और प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता के विजेताओं को सम्मानित किया गया। भाषण प्रतियोगिता में प्रथम स्थान शाकिर हुसैन, द्वितीय स्थान हर्ष सिंह और तृतीय स्थान पंजाब सिंह यादव ने प्राप्त किया। पोस्टर प्रतियोगिता में प्रथम स्थान सिद्धार्थ नेगी, द्वितीय शुभम शर्मा, तृतीय माधव जबकि स्लोगन प्रतियोगिता में प्रथम मेघा कुशवाहा, द्वितीय शाश्वत सिंह, तृतीय नंदनी कुशवाहा, प्रश्नोत्तरी में शाश्वत सिंह प्रथम, पंकज कुमार द्वितीय और राहुल तृतीय स्थान पर रहे।
इस अवसर पर स्वयंसेवकों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए गए जिनमे अबरार मंसूरी, रिचा राठोर, भानू प्रताप सेन, अजित, अनुज, वैष्णवी एवं अन्य स्वयंसेवकों ने प्रतिभाग किया। कार्यक्रम का संचालन डॉ. अनुपम व्यास एवं डॉ. उमेश कुमार ने किया जबकि आमंत्रित अतिथियों का आभार वरिष्ठ कार्यक्रम अधिकारी डॉ. श्वेता पाण्डेय व डॉ यतीन्द्र मिश्र ने व्यक्त किए। इस अवसर पर अधिष्ठाता कला संकाय प्रो. सी. बी. सिंह, विश्वविद्यालय में एनसीसी अधिकारी प्रो. सुनील कुमार काबिया, कुलानुशासक प्रो. आर के सैनी, डॉ प्रशांत मिश्रा, डॉ बृजेश कुमार लोधी, डॉ शुभांगी निगम, डॉ भुवनेश्वर सिंह मस्तानिया, डॉ. शिल्पा मिश्रा, डॉ. नीलिमा सोनी और राष्ट्रीय सेवा योजना के सभी स्वयंसेवक उपस्थित रहें।
——————————————————————–


ललित कला संस्थान में मनाई गई स्वामी विवेकानंद की जयंती
पढ़े झाँसी बढ़े झाँसी के तहत छात्रों ने किया मनपसंद पुस्तकों से अध्ययन
झाँसी। ललित कला संस्थान बुंदेलखंड विश्वविद्यालय, झाँसी में स्वामी विवेकानंद की जयंती युवा दिवस के रूप में डॉ सी.पी. पैन्यूली पूर्व विभागाध्यक्ष के मुख्य आतिथ्य में मनाई गई।
 इस अवसर पर क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी एवं बुंदेलखंड विश्वविद्यालय के कुलसचिव नारायण प्रसाद के आह्वान पर पढ़े झाँसी बढ़े झाँसी के अंतर्गत संस्थान के छात्रों ने अपनी मनपसंद पुस्तकों को प्रातः 11:00 से 12:00 बजे तक अध्ययन कर कार्यक्रम में सहभागिता की एवं पुस्तकों से अपने मनपसंद विषय पर अध्ययन किया। कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त करते हुए डॉ सी.पी.पैन्यूली ने उपस्थित छात्रों को युवा दिवस की बधाई देते हुए स्वामी विवेकानंद के जीवन पर प्रकाश डाला एवं उनके पद चिंन्हो में पर चलने आवाहन किया साथ ही आपने पढ़े झाँसी बढ़े झाँसी के अंतर्गत कहा पुस्तकें व्यक्ति के जीवन में मार्गदर्शन प्रदान करती हैं। छात्रों को हमेशा पुस्तकों का उपयोग करते रहना चाहिए। इनके अध्ययन से हमारा मार्ग प्रसस्त होता है। इस अवसर पर डॉ. अजय कुमार गुप्ता ,डॉ. बृजेश कुमार, दिलीप कुमार,मुकुल वर्मा ,कमलेश कुमार सहित संस्थान के छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे।

युवाओं से आगे बढ़ने के लिए किया प्रेरित
भारतीय संस्कृति के प्रेरणा स्रोत युवाओं के मार्गदर्शक स्वामी विवेकानंद की जयंती  बुंदेलखंड जन शिक्षा सामाजिक उत्थान समिति के केंद्रीय कार्यालय पर समिति के अध्यक्ष तरुण अरोड़ा  की अध्यक्षता में  केंद्रीय कार्यालय में मनाई गई। जिसमें वक्ताओं ने स्वामी विवेकानंद के जीवन से प्रेरणा लेते हुए युवाओं से आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया गया। समिति के अध्यक्ष तरुण अरोड़ा ने स्वामी विवेकानंद के चित्र पर माल्यार्पण करते हुए कहा की स्वामी विवेकानंद ने संपूर्ण विश्व में भारतीय संस्कृति की महानता को स्थापित किया और हमें स्वामी विवेकानंद के पद चिन्हों पर चलते हुए भारतीय संस्कृति का पालन करते हुए राष्ट्र सेवा के लिए आगे आना चाहिए। इस अवसर पर  सुमित,रविंद्र झा, सोहेल, विजय यादव,उत्कर्ष, निहाल आदि उपस्थित रहे।

स्वामी विवेकानन्द के जन्मदिवस पर हुई गोष्ठी
स्वामी प्रसाद प्राइवेट आईटीआई झाँसी में स्वामी विवेकानन्द का 158 वां जन्मदिवस राष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर एक विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में संजय पटवारी प्रदेश अध्यक्ष उत्तर प्रदेश व्यापार मंडल मुख्य अतिथि, डायरेक्टर कुलदीप सिंह की अध्यक्षता एवं प्रधानाचार्य अरुण कुमार स्वर्णकार के विशिष्ठ आतिथ्य में संपन्न कराया गया। इस अवसर पर कृष्ण पाल सिंह, धर्मेन्द्र, सागर साहू, पंकज कुशवाहा, अभिषेक शर्मा, सोमेल अग्रवाल, सत्येंद्र दांगी, सत्यम गुप्ता, निशा राठौर, शिवानी साहू, भावना सोनी उपस्थित रहे। संचालन राज सिंह ने किया। अंत में अरुण कुमार स्वर्णकार ने सभी का आभार व्यक्त किया। इसी तरह कुलदीप सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कालेज में विचार गोष्ठी आयोजित की गई। इस गोष्ठी में नाथू सिंह, अमित सेठ, एन आर सिंह, अमृता गावड़े, अजय पटैरिया, अशोक कुमार सिंह चौहान, पियूष सिंह, सूर्यदेव सिंह आदि उपस्थित रहे। अंत में शिवराज सिंह ने सभी का आभार व्यक्त किया। उधर, स्वामी विवेकानन्द कालोनी में विवेकानन्द जयंती समारोह हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस कार्यक्रम में नेहा बुधौलिया, प्राची शुक्ल, अंकित सोनी, श्रीमती अंजना सारस्वत आदि उपस्थित रहे।

स्वामी विवेकानंद ने वेदांत दर्शन का विश्व में परचम लहराया
सामाजिक संस्था उजाला के तत्वावधान में स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके चित्र पर पुष्पांजलि करके व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डाला गया। संगोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए वरिष्ठ उपाध्यक्ष व समाजसेवी सुदर्शन शिवहरे ने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने अपने कार्यों से यह सिद्ध किया कि कम उम्र में भी बहुत कुछ किया जा सकता है। कार्यक्रम का संचालन करते हुए महासचिव मनमोहन मनु ने कहा कि स्वामी जी के विचार ऐसे हैं कि निराश व्यक्ति भी अगर उसे पढ़ें तो उसे जीवन जीने का एक नया मकसद मिल सकता है। समाज के सेवा कार्य के लिए रामकृष्ण मिशन की स्थापना की। इस अवसर पर राजेंद्र दुबे, एच बी गुप्ता, विष्णु जैन, वी पी राय, दीपक राय, उमा देवी आदि उपस्थित रहे।
————–

भारत भूमि की आराधना ही युवाओं का लक्ष्य हो : तरूण बाजपेई
अभाविप ने राष्ट्रीय युवा दिवस किया संगोष्ठी का आयोजन
झाँसी। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा आज स्वामी विवेकानंद की जयंती पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गए। लगभग दर्जन शैक्षणिक संस्थानों में स्वामी जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं उनके विचारों से संबंधित संगोष्ठी, साहित्यिक चर्चा, एवं प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया।
बुंदेलखंड विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग के सभागार में आयोजित संगोष्ठी में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कानपुर प्रांत के प्रांत मंत्री तरूण बाजपेई ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि स्वामी जी का पूरा जीवन राष्ट्रीय चेतना को जन जन तक पहुंचाने के लिए समर्पित था। पश्चिमी की सभ्यता एवं उसके विचारों की काल्पनिक श्रेष्ठता को भारतीय दर्शन और संस्कृति पर अमेरिका के शिकागो में आयोजित धर्म सभा में दिए गए उनके व्याख्यान ने ध्वस्त कर दिया।
उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने युवाओं से आह्वान किया था कि 50 साल तक केवल राष्ट्र देवता की आराधना से ही भारतवर्ष को वैश्विक स्तर पर पुनः सिरमौर पर स्थापित किया जा सकता है। हिंदी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉक्टर पुनीत बिसारिया ने कहा कि शिकागो उद्बोधन के उपरांत ही भारतीय दर्शन, संस्कृति और विचार को वैश्विक स्तर पर स्वीकार्यता मिली। आज विश्व के अनेक देशों में कई ऐसे संस्थान है जो वैश्विक स्तर पर स्वामी जी के विचारों और आध्यात्मिक दर्शन का प्रचार प्रसार कर रहे हैं।
इस अवसर पर अभाविप नगर अध्यक्ष डॉ श्रीहरि त्रिपाठी, जिला संयोजक अर्चित सोनी, जिला सह संयोजक आशुतोष उपाध्याय, प्रांत एग्री विजन प्रमुख सुधीर यादव, राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य एवं बुंदेलखंड विश्वविद्यालय इकाई अध्यक्ष समरेंद्र प्रताप सिंह, इकाई मंत्री प्रतीक द्विवेदी, हिमांशु राय, अंकित श्रीवास्तव, अमृत राज पटेल, वीरेंद्र कुमार, जयवर्धन मिश्रा, हर्षदीप, रुद्राक्ष के साथ ही अनेक छात्र- छात्राएं उपस्थित रहीं। संगोष्ठी का संचालन अभाविप प्रांत कार्यकारिणी सदस्य आशुतोष मिश्रा ने किया।
—————