उड़ीसा से मऊरानीपुर सकुशल आये पचास श्रमिक ; कांग्रेस हेल्पलाइन बनी सहायक

द न्यूज यूनिवर्स

मऊरानीपुर /झाँसी

22 मई

मऊरानीपुर (झाँसी ) उड़ीसा से ट्रेन द्वारा कानपुर फिर वहां से बस द्वारा आये पचास मजदूरों की मउरानीपुर में सकुशल घर बापसी हो गई । लॉक डाउन के दौरान अपने घर गांव पहुचने के लिये व्याकुल हो रहे इन मजदूरों की आंखों में मऊरानीपुर पहुँचते ही चमक आ गई व चेहरों पर शुकून झलकने लगा । घर तक पहुंचे मजदूर कुछ देर के लिए अपने सारे दुःख दर्द भूल गए ।
मऊरानीपुर निवासी सामाजिक कार्यकर्ता एच के राजपाल द्वारा किये गये प्रयासों के चलते इन मजदूरों की घर बापसी में कांग्रेस के पदाधिकारियों ने अहम भूमिका निभाई । सामाजिक कार्यकर्ता एच के राजपाल ने बताया कि उन्होंने इन मजदूरों की घर वापसी हेतु कांग्रेस के नेताओं से सम्पर्क किया व कांग्रेस के नेताओं को इन मजदूरों की लिस्ट व मोबाईल नम्बर दिये ।इसके बाद कांग्रेस के प्रदेश कार्यालय ने उड़ीसा में पार्टी के नेताओं को जानकारी दी तो उनके घर बापसी हेतु प्रयास शुरू कर दिये गये । श्री राजपाल ने बताया कि उड़ीसा से प्रवासी श्रमिकों की घर वापसी कांग्रेस की महासचिव व उत्तर प्रदेश की प्रभारी श्रीमती प्रियंका गाँधी के नेतृत्व में काँग्रेस द्वारा उपलब्ध कराई गई हेल्पलाइन की बदौलत सम्भव हो पाई । श्रमिकों की घर वापसी को अंजाम मिला।

उड़ीसा के खड़ीसाई ग्राम तहसील खण्डापाड़ा जनपद नयागढ़ में काम कर रहे झाँसी व महोबा के क़रीब 60 श्रमिक लॉकडाउन के चलते मुसीबत में फँस गए थे। काम बन्द हो जाने से भोजन और बारिश के कारण आवास की समस्या से जूझ रहे थे। वे घर आना चाहते थे उन्होंने मऊरानीपुर के अपने सम्बन्धियों और समाजसेवियों से सम्पर्क किया। उ0प्र0 मुख्यमंत्री द्वारा नियुक्त किये नोडल अधिकारियों से वार्ता से भी कोई हल न निकला। इनकी सूची झाँसी के काँगेस कार्यकर्ताओं द्वारा प्रियंका गाँधी को भेजी गई और तत्काल उड़ीसा की काँग्रेस टीम ने इनके निवास स्थल का दौरा किया जिससे वहाँ की लोकल मीडिया सक्रिय हो गई और उड़ीसा सरकार के अधिकारी इन्हें मदद देने पहुँचे व उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार से परमीशन लेकर सम्भलपुर तक भोजन सहित बस सेवा उपलब्ध कराई। ये श्रमिक दिनांक 20 मई को सम्भलपुर से ट्रैन द्वारा कानपुर सेन्ट्रल आ गए व 50 मज़दूरों को 22 की शाम कानपुर से मऊरानीपुर बस द्वारा पहुंचा दिया गया। मऊरानीपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में कोविड की प्रथम जाँच करा दी गई है। घर वापस आये श्रमिकों में मुन्नीलाल पाल, विजय धनगर, शिवचरण, सन्तोष, मलखान, तुलसीदास, बबलू , चिंटू, श्रीराम, मथुरा, शिवचरन, पवन, सोनू, सुमित, रवि आदि पत्नी बच्चों सहित घर वापस आ गये हैं।