पुलिस कप्तान ने किया परेड ग्राउंड व आरक्षी बैरक का निरीक्षण , संजय बर्मा कांड का मुख्य आरोपी गिरफ्तार व अन्य समाचार

द न्यूज यूनिवर्स

झाँसी

24 जनबरी

पुलिस परेड ग्राउंड व आरक्षी बैरक का किया निरीक्षण
झाँसी। गणतंत्र दिवस के मद्देनजर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डी प्रदीप कुमार ने शुक्रवार को पुलिस परेड ग्राउंड का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान प्रतिसार निरीक्षक को आवश्यक दिशा निर्देश जारी किए हैं। साथ ही यह कहा कि मैदान पूरी तरह से साफ होना चाहिए। कहीं पर गंदगी नजर नहीं आनी चाहिए। उधर, एसएसपी ने नवनिर्मित आरक्षी बैरिक का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान बैरिक में निवास कर रहे आरक्षियों व संबंधित को साफ सफाई हेतु निर्देश दिए हैं। इस अवसर पर प्रतिसार निरीक्षक आदि लोग शामिल रहे हैं।

————-
छेड़छाड़ का मना करने पर पीटा
झाँसी। एरच थाना क्षेत्र के ग्राम रिया निवासी एक महिला ने रिपोर्ट दर्ज कराई है कि वह घर के पास खड़ी थी, तभी गांव में रहने वाला युवक उसके घर में घुस आया और उससे छेड़छाड़ की। मना करने पर उसकी पिटाई की। पुलिस ने गोलू कोरी के खिलाफ दफा 354,452,506 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया।
—–
पिटाई कर साइकिल क्षतिग्रस्त की
झाँसी। बबीना थाना क्षेत्र के ग्राम गुवावली निवासी रमेश पुरी ने रिपोर्ट दर्ज कराई है कि वह घर पर था, घर के बाहर उसकी साइकिल खड़ी थी, तभी दो लोग आए और गाली गलौज की। मना करने पर उसकी पिटाई की। इसके बाद साइकिल तोड़ दी। पुलिस ने अशोक पुरी और दुर्गेश पुरी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया।
————-
दहेज की खातिर दो युवतियां प्रताड़ित
झाँसी। दहेज की मांग पूरी न करने पर ससुरालियों ने दो युवतियों को प्रताड़ित किया। बाद में धमकी देकर ससुराल से निकाल दिया। तहरीर के आधार पर पुलिस ने ससुरालियों पर मुकदमा दर्ज कर लिया।
गुरसरांय खाना क्षेत्र के ग्राम मड़ोरी निवासी सुमन पांचाल ने रिपोर्ट दर्ज कराई है कि उसकी शादी उरई के गांधी नगर निवासी दिनेश कुमार से हुई है। शादी में उसके परिजनों ने हैसियत के अनुसार दहेज दिया। आरोप है कि शादी के बाद ससुरालियों ने पांच लाख रुपयों की मांग की। मांग पूरी न करने पर प्रताड़ित किया। बाद में धमकी देकर घर से निकाल दिया। पुलिस ने दिनेश कुमार, संतराम, रामकुमारी, मीना आदि के खिलाफ दफा 498ए, 323,504,506,3/4 दहेज अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया।
वहीं, चिरगांव थाना क्षेत्र के होलीपुरा मोहल्ले में रहने वाले अहसान खान की पुत्री हिनाज खान ने चिरगांव थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है कि उसकी शादी करईयनपुरा मोहल्ले में रहने वाले इमरान खान से हुई है। शादी में उसके पिता ने हैसियत के अनुसार दहेज दिया। आरोप है कि शादी के बाद ससुरालियों ने दहेज की मांग की। मांग पूरी न करने पर मानसिक रुप से परेशान किया। बाद में धमकी देकर घर से निकाल दिया। पुलिस ने इमरान खान, मुमताज, श्रीमती नफीसा, इरफान, रुबीना आदि के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया।
———–



संजय वर्मा कांड: मुख्य सरगना अंगद गुर्जर दबोचा गया


30 माह से चल रहा था फरार, 25 हजार का इनाम था घोषित
एक तमंचा व कारतूस बरामद
सीबीसीआईडी कर रही हैं संजय वर्मा कांड की विवेचना
झाँसी। नवाबाद थाना क्षेत्र के कचहरी चौराहा के पास संजय वर्मा कांड के मुख्य सरगना अंगद गुर्जर को सीपरी बाजार पुलिस और एसटीएफ ने दबोच लिया। यह आरोपी तीस माह से फरार चल रहा था। इस पर शासन ने 25 हजार का इनाम घोषित कर रखा था। गिरफ्तार किए गए इनामी बदमाश के पास से 315 बोर का तमंचा व कारतूस बरामद किए हैं। आरोपी को अदालत में पेश किया। वहां से उसे जेल भेजा गया। उधर, संजय वर्मा कांड की विवेचना सीबीसीआईडी द्वारा सम्पादित की जा रही है।
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डी प्रदीप कुमार, एसपी सिटी श्रीप्रकाश द्विवेदी और सीओ सिटी संग्राम सिंह के निर्देश पर एसटीएफ प्रभारी घनश्याम यादव और सीपरी बाजार थाना प्रभारी निरीक्षक संजय गुप्ता सीपरी बाजार थाना क्षेत्र के ग्राम लकारा निवासी अंगद सिंह गुर्जर की तलाश में वार्तालाप कर रहे थे, सूचना मिली कि ग्वालियर रोड पर स्थित शिवानी तिराहा के पास संजय वर्मा कांड का मुख्य सरगना खड़ा है। वह फिर से भागने की फिराक में है। इस सूचना पर गई टीम ने घेराबंदी कर अंगद सिंह गुर्जर को दबोच लिया। इसके पास से 315 बोर का तमंचा व कारतूस बरामद किए हैं। गिरफ्तार किए गए आरोपी को अदालत में पेश किया। वहां से उसे जेल भेजा गया।

अंगद ने इस घटना को दिया था अंजाम
पुलिस के मुताबिक 21 जुलाई 2018 को चर्चित व्यापारी संजय वर्मा अपनी गाड़ी पजेरो स्पोर्ट नंबर (यूपी93एएन-6301) से अपने चालक रवि वर्मा व सुरक्षाकर्मी जय गोस्वामी, सुनील कुशवाहा के साथ अदालत में तारीख पर आए थे। तारीख करने के बाद घर लौट रहे थे, तभी दिनदहाड़े कुछ लोगों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी थी जिससे सुरक्षाकर्मी जय गोस्वामी की मौके पर ही मौत हो गई जबकि संजय वर्मा, सुनील घायल हो गए थे। घायलों को उपचार के लिए मेडिकल कालेज लाया गया था। इस मामले में लकारा निवासी अंगद सिंह गुर्जर आदि के खिलाफ नवाबाद थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने धारा 147,148,149,302,307,120बी,506 के तहत मुकदमा दर्ज किया था। इस मामले की विवेचना सीबीसीआईडी कानपुर नगर द्वारा सम्पादित की जा रही है। इसी मामले में अंगद गुर्जर फरार चल रहा था। इस कांड में सोनू गेढ़ा को छोड़कर अन्य आरोपी गिरफ्तार हो चुके थे।

इस टीम को मिली सफलता
सीपरी बाजार थाना प्रभारी निरीक्षक संजय कुमार गुप्ता, ग्वालियर रोड चौकी प्रभारी अजमेर सिंह भदौरिया, एसटीएफ प्रभारी घनश्याम यादव, हेड कांस्टेबल रामदयाल पांडेय, धर्मपाल सिंह, विनोद कुमार, देवेश द्विवेदी, रामआसरे, विमल कुमार, राजकुमार, कमाण्डो राधेलाल, आरक्षक सर्वेश कुमार, शिववीर सिंह व शैलेन्द्र सिंह शामिल रहे हैं।

आखिर 30 माह बाद ही क्यों पकड़ा
संजय वर्मा कांड के तीस माह बीत चुके हैं। तीन आईपीएस भी बदले गए हैं मगर तीस माह पहले झाँसी पुलिस की टीम ने अंगद को गिरफ्तार करने में दिलचस्पी क्यों नहीं दिखाई हैं। हालांकि यहां की स्वॉट टीम व स्थानीय पुलिस को अंगद सिंह गुजर्ग के लुकेशन के बारे में अच्छी जानकारी थी मगर पकड़ने में दिलचस्पी नहीं ली जा रही थी। यहां माना जाए कि नेताओं के दवाब में यहां की पुलिस काम कर रही थी। पुराने कप्तान गए और नए कप्तान आए। नए कप्तान को सलामी देते हुए गिरफ्तारी की गई हैं। इस तरह की चर्चाएं चल रही हैं।
————–