उदैनियाँ परिवार काण्ड : शक की सुई निकट के लोगों पर

द न्यूज़ यूनिवर्स

झाँसी

20 अक्टूबर


—शायद पत्ती की धनराशि पर निकट के ही किसी शख्स की नीयत हो गई थी खराब
झाँसी। सीपरी थाना क्षेत्र अंतर्गत लहर की देवी मंदिर के पास स्थित दयाराम कॉलोनी में उदैनिया परिवार के चार सदस्यों की अग्निकांड में हुई मौत के रहस्य से अब धीरे-धीरे पर्दा उठने लगा है।  पुलिस की तफ्तीश जिस तरह से आगे बढ़ रही है उससे साफ हो रहा है कि शक की सुई उदैनिया परिवार के परिजनों पर भी घूम रही है। पुलिस द्वारा जांच में जो तथ्य उभरकर आ रहे हैं उससे साफ हो रहा है कि घटना में परिवार के किसी नजदीकी का हाथ हो सकता है।
सूत्रों का कहना है कि पुलिस मान रही है कि जिसने भी इस घटना को अंजाम दिया है उसे इस बात का अहसास था कि उदैनिया परिवार द्वारा संचालित की जा रही सोसाइटी (पत्ती) में बड़ी धनराशि दांव पर रहती है। उस धनराशि पर निकट के ही किसी व्यक्ति की नीयत खराब हो गई थी। घर के कीमती जेवरात भी इस व्यक्ति की नजर में थे। इन्हीं की लूटपाट करने की नीयत से परिवार के चार सदस्यों को मौत के घाट उतार दिया गया। हत्या को एक दुर्घटना दर्शाने के लिए आग लगाकर पूरा षड्यंत्र रचा गया लेकिन तफ्तीश में जो तथ्य उभरकर आ रहे हैं उनसे साफ हो रहा है कि यह दुर्घटना नहीं बल्कि सुनियोजित तरीके से की गई हत्या का मामला है। पुलिस और फोरेन्सिक टीम को जो सुबूत मिले हैं उससे पुलिस मामले का खुलासा करने के नजदीक पहुंच रही है। सूत्रों का कहना है कि घटना में किसी निकट सम्बन्धी का नाम सामने आ जाए तो कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए। बता दें कि दयाराम कॉलोनी में 14 अक्टूबर की रात की जगदीश उदैनिया,  उनकी पत्नी रजनी, उनकी माँ कुमुद और बेटी मुस्कान की सोते समय आग से जलने से मौत हो गई थी। पुलिस ने मृतक के जगदीश के भाई दीपक की तहरीर पर अज्ञात बदमाशों के खिलाफ हत्या का मुकदमा पंजीकृत कर लिया है।