समाचार , 12 अगस्त

द न्यूज यूनिवर्स

झाँसी

12 अगस्त

शिवालयों में अभिषेक और दर्शन को उमड़े शिवभक्त
झाँसी। सावन के अंतिम सोमवार पर रानी लक्ष्मीबाई की नगरी झाँसी में शिव भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा। शहर के सभी प्रमुख शिव मंदिरों में सुबह से ही भक्तों की लम्बी कतारें लगी हुई है। शिव भक्त मंदिरों में जलाभिषेक और पूजा अर्चना कर रहे हैं। हिन्दू संगठनों ने सावन के अंतिम सोमवार को शहर के मढ़िया मोहल्ले में स्थित महादेव मंदिर में सामूहिक जलाभिषेक किया गया। इस अवसर पर मंदिर में सामूहिक आरती का आयोजन किया गया जिसमें सैकड़ों लोगों ने हिस्सा लिया।
सावन के अंतिम सोमवार को जहां बाबा भोलेनाथ के भक्तों ने व्रत रखकर जलाभिषेक किया तो वहीं प्राचीन मंढ़िया महादेव मंदिर पहुंचकर महागंगाभिषेक किया। इसके बाद विधि विधान से पूजा अर्चना करते हुए अर्शीवाद लिया। हिन्दू युवा वाहिनी के तत्वाधान में झाँसी के प्रदर्शनी मैदान में बाबा भोलेनाथ के भक्त एकत्रित हुए। इसके बाद हिन्दु युवा वाहिनी के प्रदेश मंत्री संतोष शाक्या के नेतृत्व में हजारों महिलायें और पुरुष शिव भक्ति गीतों पर झूमते हुए इलाईट होते हुए मढ़िया महादेव मंदिर पहुंचे। जहां उन्होंने बाबा भोलेनाथ का जलाभिषेक किया। जलाभिषेक करते हए संतोष शाक्या ने कहा कि महाकालेश्वर मंदिर में विगत 9 वर्षों से लगातार जलाभिषेक करते चले आ रहे हैं। जिस प्रकार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शासन में अनुच्छेद 370 हटने के बाद भी माहौल शांतिपूर्ण ढंग से रहा उसी प्रकार आगे भी रहेगी। संतोष शाक्या का कहना है कि वह हैं कि राममंदिर भी शीघ्र बने। वहीं दूसरी ओर हिन्दु युवा वाहनी के प्रदेश उपाध्यक्ष योगेन्द्र सिंह राणा का कहना है कि आज के गंगाभिषेक में अन्य जिलों के लोग भी शामिल हुए हैं। वह उम्मीद करते है कि आगे भी इसी प्रकर यह कार्यक्रम चलता रहे। सरकार ने भी इस स्थान को पर्यटक स्थल बनाने के लिए तीन करोड़ की धनराशि दी है। 

..क्यों खास है सावन का अंतिम सोमवार
कहते हैं कि सावन माह महादेव का अत्यंत प्रिय माह है और प्रत्येक सोमवार भोले के विशेष आशीर्वाद को प्राप्त करने का मौका होता है। चार सोमवार अलग- अलग दिन धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष की कामना को पूरा करते हैं। इसके साथ ही, अंतिम सोमवार के दर्शन से पूरे सावन माह के दर्शन का पुण्य प्राप्त होता है।

…….सावन के चौथे सोमवार को भी लगा है प्रदोष
सावन के चौथे सोमवार को प्रदोष लगा है। प्रदोष तिथि भगवान शिव की तिथि मानी जाती है और सोमवार भगवान शिव का दिन होता है और सावन माह भगवान शिव का माह हैं, ऐसा त्रिकोणीय संयोग वर्षों के बाद बना है। अब चूंकि चौथा सोमवार पूरे श्रावण मास का फल देने वाला होता है, इसलिए भक्त मोक्ष की कामना से महादेव के द्वार पर है। बताते हैं कि दूसरे सोमवार को भी प्रदोष लगा था और चौथे सोमवार को प्रदोष लगा है लिहाजा इस बार के सावन की महत्ता खास हो जाती है।

..भोले दरबार में सुरक्षा के कड़े इंतेजाम
महादेव मंदिर के दर्शन को आने वाले भक्तों की सुविधा और सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। काफी दूरी तक पहले से बैरिकेडिंग की गई है। इसके साथ सीओ,इंस्पेक्टर, एसआई, कांस्टेबल, महिला कांस्टेबल, एंटी सेबोटाज, बीडीएस टीम और एनडीआरफ की टीम तैनात की गई है। इसके साथ ही पीएसी की तैनाती की गई है। सुरक्षा की तीसरी आंख कैमरे भी लगाए गए हैं और ड्रोन से भी सुरक्षा की चौकसी पर नजर रखी जा रही है। वहीं, अंतिम सोमवार और बकरीद एक साथ होने पर पुलिस प्रशासन ने भी सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए हुए थे। मंदिरों के साथ ही शिवभक्तों के मार्ग पर भी पुलिस की तैनाती की गई हैं। इसके साथ ही संवेदनशील स्थानों पर भी पुलिस कड़ी चौकसी बरत रही है।
————-


बकरीद में लोगों ने नमाज अदा की, एक-दूसरे को लगे लग कर दी बधाई
झाँसी। ईद उल अजहा यानी बकरीद पर्व के मौके पर शहर के मस्जिदों और ईदगाह में लोगों को जमावड़ा रहा। सभी ने एक-दूसरे को बकरीद की बधाई दी। वहीं ईद को देखते हुए प्रशासन भी सतर्क दिखा। बकरीद के पर्व पर यातायात के रास्ते बदल दिए गए हैं।
ईद उल अजहा के मौके पर सभी मस्जिदों और ईदगाह में नमाज अदा की। प्रशासन ने बकरीद की नमाज के मद्देनजर सोमवार को सुबह छह बजे से दोपहर 12 बजे तक जीआईसी से दतिया गेट जाने वाले रास्ते पर यातायात व्यवस्था रोक दी थी। बताते हैं कि नगर में धूमधाम और हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। ईदगाह में शहर काजी मुफ्ती साबिर कासमी द्वारा ईदुल अजहा (बकरा ईद) क्यों मनाई जाती है। इस संबंध में विस्तृत रुप से अपनी तकरीर में बताया। उन्होंने बताया कि अल्लाह ने हजरत इब्राहीम अलैही अस्सलाम को ख्वाब में बताया है कि कुर्बान कर तब उन्होंने पहले और दूसरे दिन ऊंट कुर्बान कर दिए लेकिन जब उल्लाहताला ने तीसरे दिन उनको फिर कहा तुम्हें जो सबसे ज्यादा प्यारी चीज हो उसे कर्बान करो, तब उन्होंने पुत्र इस्माईल अलैही अस्सलाम को अल्लाह की राह में कुर्बान करने का निर्णय लिया। तकरीर के बाद पेशइमाम ईदगाह मुफ्ती साबिर कासमी द्वारा नमाज का तरीका बताया गया और फुर्र सुकुन माहौल में नमाज अदा कराई गई व खुतवा पढ़ा। खुतबे के बाद मुल्क व मिल्लत की भालाई के लिए दुआयें मांगी और अल्लाह से मुल्क में अमन व अमानो, खुशहाली, तरक्की व भाईचारा कायम रखने की दुआयें मांगी। नमाज के बाद ईदगाह में मजूद सभी नमाजियों व ईदगाह में तशरीफ फरमा व तमाम अधिकारियों एवं संभ्रान्त नागरिकों ने एक दूसरे से गले मिलकर ईद की मुबारकबाद दी। ईदगाह में राज्यसभा सांसद सपा के डॉ चंद्रपाल सिंह यादव, एसएसपी डॉ ओ पी सिंह, एसपी सिटी श्रीप्रकाश द्विवेदी, एडीएम, नगर मजिस्ट्रेट रामप्रकाश, नगर आयुक्त मनोज कुमार सिंह, ईदगाह कमेटी के अध्यक्ष कारी हसीब,महामंत्री याकूब अहमद मंसूरी, नूर अहमद मंसूरी, बसपा के सीताराम कुशवाहा, जुगल किशोर कुशवाहा, अतुल किलपन, रवीश त्रिपाठी, साकिर भाई, कांग्रेस के देवी सिंह कुशवाहा, ननि सभासद सुलेमान अहमद मंसूरी, मंसूर अहमद मंसूरी आदि ने एक दूसरे से गले मिलकर ईद की मुबारकवाद दी। अंत में ईदगाह कमेटी के महामंत्री याकूब अहमद मंसूरी ने सभी का आभार व्यक्त किया।
———-